Sunday, 3 December 2017

अगर मरीज को हो खून की आवश्यकता- Safety measures while donating blood

कई बीमारियों और operations में ब्लड चढ़ने की जरूरत पड़ जाती हैl ऐसे मरीज़ के घरवालों के सामने असली चुनौती यह होती है की वे सेफ ब्लड का इंतजाम कहाँ से करेंl साथ ही यह भी महत्वपूरण है की मरीज़ को ब्लड चाढ़ने का process ठीक तरीके से पूरा हो और उसमें पूरी तरह से सावधानी बरती जाएl अगर ब्लड की जरूत पड़ जाए तो इन बातों का ध्यान रखें:-

1) बेहत जरुरी ना हो, ब्लड चढ़वाने से बचना चाहिएl

2) हमेशा लाइसेंस वाले ब्लड बैंक से ही ब्लड लेंl

3) ब्लड बैग पर लिखी expire date चेक करेंl

4) ब्लड वाले बैग को साफ़ हाथों से छुएl

5) ध्यान रखे की मरीज़ को ग़लत ग्रुप का ब्लड चढ़ जायेl यह जान लेवा भी हो सकता हैl

Common इन्फेक्शन का खतरा- blood चडाने से  HIV, hepatitis b और c, सिफलिस और मलेरिया आदि बीमारियाँ हो सकती हैंl Blood की जाँच में इन्हें नेगेटिव पाए जाने पर भी 100% कोई safety का दावा नहीं किया जा सकताl

कौन सा blood group किसे blood दे सकता है और किसे नहीं?
O group universal donor हैl O positive वाला सभी positive को खून दे सकता हैl O आमतौर पर क्रोस matching करके ही same ग्रुप वाले को blood दिया जा सकता हैl

आप अपने लिए भी अपना blood use कर सकते है- जी हाँ ऐसा मुमकिन हैl कोई व्यक्ति अगर चाहे तो अपनी सर्जरी में अपना ही खून इस्तमाल कर सकता हैl पहले से तये operations और surgeries के मामलों में कोई व्यक्ति surgery से चार पांच दिन पहेले blood बैंक जाकर अपना blood जमा करा करवा सकता हैl इसके बाद operation के दौरान वह खून उसके काम आ सकता हैl ऐसा अक्सर आसानी से ना मिलने वाले negative group के blood वाले मामलों में किया जाता हैl